*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

’केदारनाथ’ से उजागर हुआ भाजपा का ’हिन्दू प्रेम’

15-12-2018 19:17:13

कोटद्वार। कांग्रेस प्रदेश सचिव कृष्णा बहुगुणा ने खनन के विरोध में चलाए जा रहे आंदोलन को दबाने के लिए ग्रामीणों पर फर्जी मुकदमें दर्ज करने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार और स्थानीय शासन-प्रशासन की दमनकारी नीतियों को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और जनविरोधी नीतियों के खिलाफ आंदोलन आगे भी जारी रहेगा।
कांग्रेस प्रदेश सचिव कृष्णा बहुगुणा ने जारी बयान में कहा कि प्रदेश सरकार ने चुनावों के दौरान शराब, नशा और अवैध खनन पर अंकुश लगाने का भी वायदा किया था। साथ ही जनता ने इस विश्वास के साथ बहुमत दिया कि सरकार बनने के बाद लालढांग-चिलरखाल मार्ग का निर्माण कराने के साथ ही क्षेत्र में नर्सिंग कालेज, केंद्रीय विद्यालय का निर्माण कराएगी, लेकिन सत्तासीन होने के बाद से ही विकास कार्य ठप्प पड़े हुए है और सरकार का ध्यान अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए केवल खनन और शराब पर ही केंद्रित है। उन्होंने कहा कि वह खनन के विरोध में नहीं हैं, लेकिन जिस तरह से खनन कराया जा रहा है वह इसका पुरजोर विरोध करती है और आगे भी करती रहेंगी। उन्होंने कहा कि खोह नदी में खनन मानकों के अनुरूप न होने से नदी के दोनों ओर बसे गांवों में बाढ़ का खतरा बना हुआ है और लोग अपने लोकतांत्रिक अधिकारों का प्रयोग कर अवैध खनन का विरोध कर रहे है, लेकिन प्रदेश सरकार जनता के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन करने के साथ ही उन पर फर्जी मुकदमें दर्ज करा ग्रामीणों में दहशत फैलाना चाहती है और सरकार को उसके मंसूबों में कतई कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के साथ ही जिला पदाधिकारियों को लाभ पहुंचाने के लिए तेलीस्त्रोत का पट्टा उनके नाम किया जा रहा है, जो प्रदेश सरकार की मंशा को जाहिर करता है। उन्होंने कहा कि चाहे सरकार उनको जेल में डाल दे, लेकिन अवैध खनन का वह पुरजोर विरोध करती रहेंगी।