ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    मुझे बूढ़ी दीपावली/इगास/देवलांग की छुट्टी चाहिए

    13-11-2018 15:52:39

    देहरादून (प्रदीप रावत "रवांल्टा") | ...क्या इस बार पूरे प्रदेश में इगास, बूढ़ी दीपावली, देवलांग की भी छुट्टी मिलेगी? क्या फूलदेई की भी छुट्टी होगी...? किसी को छुट्टी देने में कोई ऐतराज नहीं है, लेकिन हमारी लोक संस्कृति से जुड़े त्योहारों की छुट्टी क्यों नहीं दी जाती...? ये सवाल किसी अकेले का नहीं है। ये सवाल पूरे पहाड़ का है या यूं कहें कि ये सवाल असल उत्तराखंड का है। ये सवाल उन परंपराओं का है, जिनके लिए पूरे प्रदेश में अगल-अलग मान्यताओं के आधार पर त्योहार मनाया जाता है। वीर माधो सिंह भंडारी का बलिदान भी तो याद कर लेते। गढ़वाल से लेकर कुमाऊं तक इगास मनाई जाती है। जिस जिले में सल्तनत बसती है, उस जिले में भी इगास मनाने वाले, बूढ़ दीपावली मनाने वाले और देवलांग मनाने वाले भी रहते हैं।
    सरकारें चाहे जो भी हों, उनके लिए वोट से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं होता। वोटों की बस्ती के लिए सरकार अध्यादेश लाई। राजधानी बनाने के लिए तो किसी सरकार ने आवाज नहीं उठाई। रोजगार के सवाल पर हर सारका चुप क्यों हो जाती। पहाड़ के सांस्कृतिक आयोजनों को राजकीय मेला घोषित कर अधमरा कर पहले ही अधमरे हो चुके हैं। सरकार के लिए बाहर से आए हर समुदाय के त्योहार और संस्कृति मायने रखती है। लेकिन, उत्तराखंडियों के त्योहारों के लिए कभी कोई छुट्टी नहीं होती। आखिर क्यों...?
    इस बात पर कोई ऐतराज नहीं है कि किस त्योहार पर छुट्टी घोषित की जाए, किस पर नहीं। उत्तराखंडियों को इस बात पर ऐतराज है कि उनके त्योहार पर क्यों नहीं छुट्टी दी जाती। आखिर सरकारें कब तक उत्तराखंडियों को इस तरह से दूर का समझती रहेंगे। सोशल मीडिया पर तो लोग यहां तक कह रहे हैं कि नेताओं के लिए उत्तराखंड के कोई मायने नहीं हैं। सत्ता में बैठे नताओं को केवल वोट का गणित नजर आता है।
    सरकार का छुट्टी का आदेश आते ही सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा और दर्द छलक उठा। लोगों का कहना है कि सरकार को अगर छुट्टी करनी ही थी तो इगास या बूढ़ी दीपावली पर करते। फूलदेई पर क्यों नहीं छुट्टी करते। मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा गया, फिर भी उस पर ध्यान नहीं दिया गया। देहरादून की अवैध बस्तियों पर केवल सत्ता ही नहीं, नौकरशाह भी मेहरबान हैं। असल मायने में कहें तो नौकरशाहों के इशोरों पर चलने वाली सरकार हर फैसला नौकरशाहों के डर से ही लेती है। नेताओं नब्ज दबाए नौकरशाह अपने इशारे पर किसी एक नेता को नहीं, बल्कि पूरी सरकार को ही नचा रहे हैं। नाचिए सरकार...। केवल नाचिए नहीं...। तांडव नृत्य कीजिए।