*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

सभी देश एवं प्रदेशवासियों को गणतन्त्र दिवस की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनायें - संजय अरोड़ा

26-01-2019 16:46:36

फतेहपुर चौरासी, उन्नाव (रघुनाथ)| थाना क्षेत्र के अन्तर्गत तकिया चौराहे के निकट गुरुवार को हुए हादसे के बाद जैसे ही तीनो मृतकों के शव पोस्टमार्टम के बाद गाँव पहुंचे तो चारों तरफ़ कोहराम मच गया। एक तरफ सहनूर के घर से ईद के पर्व की खुशियां गायब हो गई तो दूसरी तरफ एक ही परिवार के चचेरे भाई करन और सतेन्द्र की मौत से गम का पहाड़ टूटता दिखाई दे रहा था। गुरुवार को शाम थाना क्षेत्र के गाँव सराय पतौली निवासी तीन किसोर मित्र सहनूर, करन और सतेन्द्र बाइक से मौज मस्ती करते बांगरमऊ लखनऊ रोड पर चौधरी खेड़ा के पास शारदा नहर में नहाने बाइक से जा रहे थे तभी नागेश्वर मंदिर के पास सामने से आ रहे अज्ञात ट्रक में बाइक अनियंत्रित होकर घुस गई जिसमे तीनो दोस्त घायल हो गए। अस्पताल पहुँचते पहुँचते सहनूर और करन ने दम दी जबकि सतेन्द्र ने जिला अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ा। अचानक हुए हादसे के बाद पूरे गाँव में कोहराम मच गया।ईद का त्यौहार होने के कारण सहनूर के घर में धूमधाम से मनाने की तैयारियां चल रही थी जो एकाएक रुक गई।सहनूर अपने भाइयों में तीसरे नम्बर का पैरों से कुछ कमजोर घर में सबका दुलारा था और तकिया के एक मान्टेसरी स्कूल में कक्षा पांच में पढ़ता था।वहीँ हरदोई जनपद के सण्डीला क्षेत्र के गाँव गौसापुर के मूल निवासी केसन जो लगभग बीस पच्चीस वर्ष से पतौली में रह रहे है उनका पुत्र करन और चचेरा भाई सतेन्द्र हम उम्र होने के कारण भाई के साथ दोस्त भी थे।करन अपने भाई बहन मे चौथे नम्बर का था।पूरे परिवार में हम उम्र कई बच्चे होने के कारण खुशी का माहौल था।लेकिन विधाता की मर्जी के बिना कुछ नहीं हो सकता।यह बात उस समय सही हो गई जब एक तरफ ईद का त्यौहार फीका पड़ गया और दूसरी तरफ घर में दो दो बच्चों के शव देखकर परिजनों का कलेजा फट गया।दोनों परिवारों और लगभग पूरे गाँव में लोगों के गले रोटी का निवाला निगले नही जा रहा था।पोस्ट मार्टम के बाद शव पहुँचते ही एक बार फिर पूरे गाँव में कोहराम मच गया।सहनूर के घर कोई उसके कपड़े देखकर रो रहा था तो कोई किताबे और अन्य सामान देखकर बिलख रहा था।वहीँ करन और सतेन्द्र के परिजन दोनों की दोस्ती की यादें करके दहाड़ मारकर रो रहा था।घरों में चूल्हे तक नहीं जले।