*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

अदरक बीज उत्पादन कर राज्य के कृषको को आर्थिक रूप से समृद्ध किया जा सकता है।

06-02-2019 18:58:35

 

सैकड़ो समर्थकों के साथ काली पट्टी बांध किया विरोध प्रदर्शन

डीएम को ज्ञापन सौंप दोषियो को सजा और सरकारी सुुविधाओं से वंचित रखने की उठाई मांग

उन्नाव। मध्यप्रदेश के मंदसौर में नाबालिक बच्ची के साथ दुष्कर्म के साथ अमानवीय कृत्य का मामला थमने का नाम नही ले रहा है। लोगो ने मासूम को इंसाफ दिलाने के लिए जुलूस निकालना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में सामाजिक संस्था अलबेली सरकार के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने काली पट्टी बांध विरोध प्रदर्शन किया। विरोध के अंत में संस्था द्वारा डीएम को ज्ञापन सौंप दोषियों पर कार्यवाही की मांग की गयी।
    मालूम हो कि बीते दिनों मध्यप्रदेश के मंदसौर में एक मासूम के साथ हैवानियत की तस्वीर खुलकर सामने आयी थी। मामला हैवानियत की सारें हदें पार कर चुका था। इस कारनामें में इरफान व आसिफ को आरोपी बनाया गया है। दिल दहला देने वाली इस घटना ने प्रदेश की सरकार की नींद उड़ा दी। मासूम को न्याय दिलाने के लिए अब सामालिक संस्थाओं ने भी कमर कस ली है। मंगलवार को सामाजिक संस्था अलबेली सरकार की जिला अध्यक्ष सुधा अवस्थी अपने पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ रोड पर उतर आयी। कार्यकताओं ने माथे पर काली पट्टी बांध विरोध प्रदर्शन किया। विरोध के अंत मे डीएम को ज्ञापन सौंप दोनो आरोपियों पर कठोर कार्यवाही कराने की मांग की गयी। साथ ही साथ आरोपियों के परिजनों की संपत्ति जब्त कराने और 30 साल तक सरकारी सुविधाओं से वंचित रखने की भी मांग उठाई। इस दौरान सुधा चतुर्वेदी, अधिवक्ता शोभा पाण्डेय, प्रीति सिंह, रेनू तिवारी, छाया, विमला, शिवांकी द्विवेदी, मदन पाण्डेय, बब्लू शर्मा, निशांत, दुर्गा कृष्ण, अवधेश सिंह, नीतेश कुमार मिश्रा, अमीत चैहान, निखित चैहान, श्रीराम लोधी, रामबोध शुक्ला समेत सैकड़ो कार्यकर्ता मौजूद रहे।