नाली विवाद में ले ली युवक की जान

Publish 16-11-2017 15:55:01


नाली विवाद में ले ली युवक की जान
यूपी उन्नाव (संकल्प दीक्षित)
पुराने नाली विवाद को लेकर धान की पिटाई कर रहे परिवार पर बुधवार की आधी रात को दूसरे पक्ष ने लाठी व धारदार हथियार से हमला युवक को पीट-पीटकर मौत के घाट  उतार दिया। घटना के समय मारपीट में आधा दर्जन लोग घायल हो गए। जानकारी पर पहुंची पुलिस घायलों को एम्बुलेंस से आनन फानन जिला अस्पताल में भर्ती कराया। पीड़ित की तहरीर के आधार पर पुलिस ने सात लोगों के विरुद्ध हत्या का केस दर्ज किया है।
सदर कोतवाली के इब्राहिमाबाग निवासी चंदू ने गांव में ही रहने वाले अशोक पुत्र सरजू का डेढ़ बीघा खेत बटाई पर लिया। बुधवार की रात को चंदू अपने बेटे अखिलेश 25 व नीरज 20, लवकुश 13, रीना 11 और विटोला 18 के साथ मिलकर खेत पर धान की पिटाई कर रहे थे। इसी बीच गांव में रहने वाले राम सजीवन पुत्र नन्हे व इनके बेटे कुंवारे, राकेश और  शिव शंकर पुत्र सजीवन भी खेत पर किसी काम को लेकर पहुंच गए थे। तभी दोनों पक्षों में कहासुनी के बाद गाली गलौज शुरू हो गई। मामला इतना बढ़ा की राम सजीवन ने फोन कर गांव के कुछ अन्य लोगों को खेत पर बुला लिया और मारपीट करने लगे। इसी दौरान किसी धारदार हथियार से हमला बोल दिया। हमले से घायल अखिलेश की मौके पर मौत हो गई। जबकि चंदू, नीरज, लवकुश, रीना और विटोला गंभीर रूप से जख्मी हो गए। घटना को अंजाम देने के बाद पर मारपीट करने वाले युवक मौके से भाग निकले। घायल महिलाओं ने गांव के ही देशराज का ट्रैक्टर फोन से मंगवाया और सौ नंबर पुलिस को भी सूचना दी। जानकारी पर पहुंची पुलिस ने एम्बुलेंस बुलवाकर आनन फानन घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टर ने अखिलेश को मृत घोषित कर दिया। घायलों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मृतक अखिलेश के भाई नीरज ने पुलिस में तहरीर देकर सात लोगों को नामित करते हुए हत्या का केस दर्ज कराया है। नामितों में सुशील, अनिल, सुनील, शिव शंकर पुत्र सजीवन और राम सजीवन व इनकी पत्नी और पुत्री को नामजद किया गया है। 
 
 
 
बदसलूकी का महिलाओं ने किया था विरोध 
पीड़ितों के मुताबिक बुधवार की रात नामित ने परिजनों के साथ बदसलूकी की थी। महिलाओं से विरोध करने पर युवकों ने लाठी और धारदार हथियार से हमला बोल दिया था। मामला बढ़ता देख सब एक जगह एकत्र हो गई और रामसजीवन ने फोन कर आधा दर्जन लोगों को लाठी व धारदार हथियार से लैस होकर पहुंच गए। हमला से अखिलेश की जान चली गई है।

 

To Top