*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

वृद्व पर छेड़छाड़ का मामला दर्ज

19-01-2019 19:41:19

कालागढ़ (कुमार दीपक)। भारत वर्ष मे शायद ही कोई ऐसा मार्ग होगा जहां आवागमन के लिए वाहन के नंबर को लेकर कोई आपत्ति की जाती हो। पर कालागढ़ से रामनगर जाने के लिए वन विभाग वाहनो के नंबर को लेकर काफी चर्चा मे है। यहां से उत्तराखंड नंबर के वाहनो को बिना किसी हील हुज्जत के आवागमन की सुविधा है। दूसरे राज्यो के वाहन स्वामियो को कड़ी प्रक्रिया से गुजर कर वन विभाग के अधिकारियो से अनुमति मिलने पर जाने दिया जाता है। जिससे भारी परेशानी होती है। वर्तमान मे वन विभाग ने नियम और भी कड़े करते हुए फरमान जारी कर दिया है कि अब वाहन को केवल एक ही ओर से आने या ​जाने की अनुमति दी जा रही है। जिससे जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यदि किसी को रामनगर जाना है तो उसे वापस आने की अनुमति नही दी जा रही है। जिससे वापस आने के लिए वह काशीपुर होकर आने का विवश है। नगर की कांग्रेस कमेटी ने वन विभाग पर जनता के अधिकारो के हनन का आरोप लगाते हुए गढ़वाल व कुमांयू के नगरो को जाने वाले प्राचीन मार्ग को वन विभाग के अधिकारो से मुक्त कराने के साथ ही जांच कराने की मांग की है कि बिना शासन आदेशो के इस मार्ग पर वाहनो के संचालन मे बाधा डाली जा रही है। नगर के कांग्रेसियो आकाशदीप शर्मा, केनिंग कुमार,आशीष चौधरी, हाजी इसरार अहमद आदि ने सीएम से मांग की है कि इस मार्ग से वन विभाग का नियंत्रण हटाकर देश के सभी वाहनो को आवागमन की अनुमति दी जाए। कालागढ़ के उप प्रभागीय वनाधिकारी आरके तिवारी का कहना है कि कार्बेट टाइगर रिजर्व मे कार्बेट नेशनल पार्क के कोर जोन से होकर यह मार्ग जाता है। इसलिए इस पर रोक है। वन विभाग से बाकायदा अनुमति दी जा रही है। एक आने और जाने पर माना जा रहा है कि वह पार्क मे भ्रमण पर आ रहे है। ऐसे मे उनके प्रवेश को रोका जा रहा है।