*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

अवैध तमंचे के साथ दो लोग गिरफ्तार

21-02-2019 17:01:25


कोटद्वार | उत्तराखंड विकास पार्टी की बैठक शुक्रवार को  लैंसडौन भवन देवी मंदिर कोटद्वार में सम्पन्न हुई।  बैठक में वक्ताओं ने देहरादून में नदियों के  अवैध निर्माण को हटाने से रोकने के लिए भाजपा सरकार द्वारा तुरंत फुरन्त में लाए गए अध्यादेश की कड़ी निंदा की । वक्ताओं ने कहा कि एक ओर सरकार पहाड़ में आपदा की वजह से विस्थापित हुए गांवों के लिए भूमि नहीं दे पा रही है तो दूसरी ओर बाहर से बसे बांग्लादेशियों और अन्य राज्य के लोगों को अवैध रूप से काबिज हो जाने के बाद वोट बैंक की खातिर उन्हें वैध कर रही है जो कि दुर्भाग्यपूर्ण है । इस देव भूमि में गढ़वाली और कुमाऊंनी लोगों ने कभी भी सरकारी भूमि पर कब्जा करने की , अवैध अतिक्रमण करने की कोशिश भी नहीं की, नहीं तो देहरादून की इन अवैध बस्तियों में गढ़वाली और कुमाऊंनी लोगों की संख्या सबसे ज्यादा होती । परंतु यह खेद की बात है कि हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद राज्य सरकार मात्र वोट बैंक की खातिर मलिन बस्तियों को अवैध आश्रय दे रही है और अध्यादेश तुरंत तुरंत में जारी कर रही है । उत्तराखण्ड विकास पार्टी के अध्यक्ष मुजीब नैथानी ने कहा कि जब पहाड़  पर पलायन, रोजगार, शिक्षा और चिकित्सा की बात आती है तब ऐसा कोई अध्यादेश जारी नहीं किया जाता है। सूचना आयुक्त और लोकायुक्त के पद खाली हैं मगर सरकार इनको भरने में कोई रुचि नहीं दिखा रही है। ऐसी स्थितियाँ गढ़वाली और कुमाऊंनी लोगों के लिए  खतरे की घंटी है । बैठक में एडवोकेट ध्यान सिंह नेगी, एडवोकेट सुनील डोबरियाल, रघुवीर सिंह नेगी, संजय धस्माना, सुनील रावत, आशीष किमोठी, महाराज बिष्ट, महेंद्र गुसाईं, विजय पाल सिंह गुसाईं, रविन्द्र ध्यानी, अभय काला, विश्वजीत , ऋषि, सुदीप, चंद्रेश बौंठियाल आदि शामिल थे।