सेना ने पकड़े फर्जी दस्तावेज के साथ तीन युवक, यूपी के शामली जिले के है तीनो युवक

Publish 11-06-2019 19:10:28


सेना ने पकड़े फर्जी दस्तावेज के साथ तीन युवक, यूपी के शामली जिले के है तीनो  युवक

कोटद्वार :  यहां कौड़िया स्थित विक्टोरिया क्रॉस गब्बर सिंह कैंप में आयोजित सेना भर्त्ती रैली के 9वे दिन हरिद्वार जिले के भगवानपुर रुड़की हरिद्वार और लक्सर के साथ देहरादून जिले के चकराता और ऋषिकेश तहसील क्षेत्र के युवाओ की भर्ती में उत्तर प्रदेश से भर्त्ती होने पहुंचे तीन युवाओं को फर्जी दस्तावेजों के साथ सेना ने धर दबोचा। जिससे उच्चाधिकारियां में हड़कंप मच गया। जांच में उनके आधार कार्ड और मूल निवास तक फर्जी पाए गए जांच में यह बात भी सामने आई कि सभी युवक दलाल के माध्यम से भर्ती होने के लिए कोटद्वार पहुंचे थे। फिलहाल सेना की खुफिया विभाग पकड़े गए युवकों से पूछताछ में जुटी हुई है।
कोटद्वार कौड़िया के गब्बर सिंह कैंप में लैंसडौन भर्त्ती कार्यालय की ओर से जीडीए टेक्निकल, नर्सिग सहायक, क्लर्क और ट्रेडमैन की भर्त्ती प्रक्रिया चल रही है। मंगलवार को हरिद्वार जिले के भगवानपुर रुड़की हरिद्वार और लक्सर के साथ देहरादून जिले के चकराता और ऋषिकेश तहसील क्षेत्र के युवाओ की भर्ती में उत्तर प्रदेश के तीन युवक फर्जी दस्तावेजों के साथ पहुंच गए। सुबह करीब चार बजे गब्बर सिंह कैंप कौड़िया में दौड़ से पहले खुफिया विभाग को एक युवा पर हरिद्वार जिले के भगवानपुर रुड़की हरिद्वार और लक्सर के साथ देहरादून जिले के चकराता और ऋषिकेश तहसील के हाव भाव न मिलने के कारण शक हुआ। खुफिया विभाग व सेना के अधिकारियों ने जब युवा से सख्ती पूछताछ की तो उसने सब कुछ बता दिया। युवक ने खुफिया विभाग को बताया कि वह अपने तीन साथियों के साथ भर्त्ती रैली में शामिल होने आया था। युवक की पहचान पर खुफिया विभाग ने अन्य दो युवाओं को भी पकड़ लिया।
भर्ती निदेशक कर्नल विनीत वाजपेयी ने बताया कि सभी युवाओं ने मूल निवास प्रमाण पत्र आधार कार्ड और जाति प्रमाण पत्र सहित अन्य दस्तावेज हरिद्वार जिले के पाये गये सख्ती से पूछताछ करने पर युवाओं ने बताया कि वे सभी उत्तर प्रदेश के शामली जिले के रहने वाले हैं और एक दलाल ने उन्हें सेना में भर्ती कराने का लालच दिया और भर्ती होने के बाद पैसे देने की बात भी दलाल से तय हुई थी। पूछताछ के दौरान चारों युवकों ने खुफिया विभाग को बताया कि हरिद्वार के एक व्यक्ति से पांच.पांच हजार रुपये में भर्ती के लिए हरिद्वार तहसील के नाम पर आधार कार्ड मूल निवास और एडमिट कार्ड बनाया। तीनो युवको ने अपने नाम व पता  बलवीर सिंह निवासी शामली झिझाणा,यूपी , देवेन्द्र सिंह निवासी शामली ऊणा यूपी , मांगेराम पुत्र सोम शामली ऊणा यूपी  के निवासी बताया है। कर्नल विनीत वाजपेयी ने बताया कि तीनो  युवकों से सख्ती से पूछताछ की जाएगी और फर्जी दस्तावेजों बनाने वाले व्यक्तियों तक पहुंचा जाएगा। जिससे कि आगे भी सेना भर्ती में पारदर्शिता बनी रहे और पहाड़ी क्षेत्र से आने वाले युवाओं का सेना भर्ती पर भरोसा बना रहे। भर्ती ग्राउंड को चारों तरफ से सीसीटीवी कैमरे से लैस किया गया हैए जिससे कि भर्ती में पारदर्शिता लाई जा सकें। उन्होंने बताया कि तीन युवक जो कि मूल रूप से उत्तर प्रदेश के शामली के रहने वाले हैं। उन्होंने फर्जी दस्तावेज बनाकर भर्ती रैली में घुसने का कोशिश की। जिन्हें सेना की खुफिया विभाग ने समय रहते पकड़ लिया। सभी से सख्ती से पूछताछ की जा रही है।

To Top