ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    पुलिस ने लौटाये खोये हुये मोबाइल -पटवारी ,पुलिस समेत 60 लोगों को पुलिस ने लौटाए मोबाइल

    06-03-2019 17:45:02

    थलीसैंण |  सावन मास के पाचवे व अंतिम सोमवार को मूसलाधार बारिश में भी स्थानीय शिवालयों में जलाभिषेक करने के लिए सुबह से श्रद्धालुओं की भीड़ लगनी शुरू हो गई थी। श्रद्धालुओं को शिव लिंग में दूध व जल चढ़ाने के लिए लम्बी कतार पर खडा रहना पड़ा। श्रावण मास के पांचवें  सोमवार को  क्षेत्र सुबह से मूसलाधार बारिश में भी श्रद्धालुओं की आस्था बनी रही। सभी स्थानीय शिवालयों शिव मंदिर हसेश्वर महादेव हस्यूडी शिव मंदिर व्यासी शिव मंदिर जखोला शिव मंदिर जिवई शिव मंदिर सुकई शिव मंदिर विदेस्वर अर्धनारेश्वरमदिर मजरामहादेव शिव मदिर तरपालीसैण शिव मंदिर चाकीसैण शिव मंदिर कुठकडाई आदि में श्रद्धालुओं द्वारा शिव लिंगौ में दूध व जल चढ़ाया गया। सुबह से और दोपहर तक क्षेत में मूसलाधार बारिश होती रही। लेकिन बारिश में भी श्रद्धालुओं का शिवालयों में आना जाना कम नहीं रहा। दोपहर बाद मौसम कुछ सुहाना रहा। साय के समय क्षेत्र में फिर बारिश शुरू हो गई थी।  मंदिरों में भक्तों द्वारा भजन कीर्तन का आयोजन किया गया। वम वम भोले नाथ की जयकारों से सभी शिवालय गुंजायमान हो रहे थे।  सभी मंदिरों में भंडारे का आयोजन किया गया था। भक्तजनों द्वारा प्रसाद ग्रहण किया गया। जलाभिषेक करने के लिए सुबह से ही भक्तजन कतार में लग गए थे। मौसम की बेरुखी में भी  श्रद्धालुओं के पग नहीं डग मगाये । दो दिनों से हो रही लगातार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त तो हो ही रहा था। लेकिन मूसलाधार बारिश में भी भक्त जनों की भगवान शिव के प्रति आस्था बनी रही। मंदिरों में देर रात तक भजन कीर्तन का आयोजन जारी रहा।