*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

रघुवंशी हत्याकांड में सरकारी गवाह के घर पर हुई फायरिंग का पुलिस ने किया खुलासा

11-01-2020 16:40:42 By: एडमिन

कोटद्वार । विगत चौबीस दिसंबर को बीईएल रोड पर हुई फायरिंग में पुलिस ने शनिवार को खुलासा करते हुए बताया कि फायरिंग योगम्बर सिंह नेगी को डराने के लिए कराई गई थी क्योंकि उनका कोई जमीनी विवाद चल रहा था ।जिसमें पुलिस द्वारा तीन अभियुक्तों को पकड़ कर जेल भेज दिया गया ।

 

 

शनिवार को कोतवाली परिसर में फायरिंग का खुलासा करते हुए पुलिस उपाधीक्षक अनिल कुमार जोशी ने बताया कि धीरेन्द्र सिंह रावत पुत्र स्व0 रूप सिंह निवासी ग्राम शिवपुर त्रिलोकपुरम कॉलोनी ने योगम्बर सिंह नेगी उर्फ डब्बू को डराने के लिए उनके घर के बाहर फायरिंग कराई थी। पुलिस ने घटनास्थल से फायर किये गये तीन टुकड़े सफेद धातु के बरामद किये थे। देहरादून, हरिद्वार, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, सहारनुपर व करनाल, सोनीपत, पानीपत हरियाणा आदि स्थानों पर पुलिस टीमों को भेजा गया। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने 10 जनवरी को सुखरौ नदी के पुल पर मोटर साइकिल पर सवार दो व्यक्तियों को पकड़ा। पुलिस ने जब उनसे पूछताछ की तो वह स्पष्ट जवाब नहीं दे पाये। सख्ती से पूछताछ करने पर व्यक्तियों ने बताया कि 24 दिसम्बर को देर सांय इसी मोटर साईकिल पर जाकर, सुपारी लेकर जीवानन्दपुर गांव कोटद्वार में एक घर के बाहर से एक व्यक्ति को जान से मारने की नियत से रिवाल्वर से फायर किया था, लेकिन वह बाल-बाल बच गया। धीरेन्द्र सिंह रावत पुत्र स्व0 रूप सिंह निवासी ग्राम शिवपुर त्रिलोकपुरम कॉलोनी ने घटना को अंजाम देने के लिए रिवाल्वर भी मुहैया करवाया था। योगम्बर सिंह नेगी उर्फ डब्बू की हत्या के लिए एक लाख अस्सी हजार रूपये भी एडवांस दिये थे।

 

शुक्रवार को दोनों व्यक्ति एक लाख बीस हजार रूपये लेने व फायर किये हुए रिवाल्वर को वापस करने के लिए धीरेन्द्र सिंह रावत के पास जा रहे थे। जिस पर पुलिस कर्मी दोनों को गिरफ्तार कर कोतवाली ले आये। शनिवार को दोपहर 1 बजे पुलिस ने धीरेन्द्र सिंह रावत को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। धीरेन्द्र सिंह रावत ने पुलिस पूछताछ में बताया कि पदमपुर सुखरौ में 12 बीघा जमीन को लेकर योगम्बर सिंह नेगी उर्फ डब्बू, दुर्गेश ममगाईं, अमित देवरानी, राजेन्द्र मैंदोली, मोहित अग्रवाल से रंजिश चल रही थी। योगम्बर नेगी एवं उसके साथियों द्वारा मुझे बार-बार धमकाया जा रहा था। उन्हें डर था कि योगम्बर सिंह नेगी मुझे मरवा सकता है। योगम्बर सिंह नेगी को डराने के लिए उन्होंने शिशुपाल सिंह नेगी पर बाहर से शूटरों को बुलाकर जान से मारने हेतु फायर करवाया था ।

 

सीओ अनिल जोशी ने बताया कि शिशुपाल सिंह नेगी पर फायर करने वाले हर्षदीप उर्फ प्रीत पुत्र स्व0 जसपाल सिंह निवासी ग्राम जलालपुर थाना रामराज जनपद मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश, सचिन चौधरी पुत्र देवेन्द्र चौधरी उर्फ राजू निवासी ग्राम नसीरपुर थाना तितावी जनपद मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार किया गया है। अभियुक्तों के पास से एक रिवाल्वर, नौ जिंदा कारतूस, एक अदद पिस्टल, घटना में प्रयुक्त मोटर साईकिल को बरामद किया गया है। उन्होंने बताया कि अभियुक्तों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307, 420,120 और आम्रर्स अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।उन्होने बताया कि अभियुक्त धीरेन्द्र सिंह रावत के खिलाफ पूर्व में भी  आईपीसी की धारा 307, 504, 506, 427 और आमर्स अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज है। धीरेन्द्र रावत ने तीन लाख में शूटरों को हत्या करने की सुपारी दी थी।

 

एसएसपी पौड़ी ने घटना का खुलासा करने पर टीम को 2500 रूपये पुरस्कार स्वरूप देने की घोषणा की है।खुलासा करने वाली टीम में एएसपी प्रदीप कुमार राय, सीओ अनिल जोशी, प्रभारी निरीक्षक मनोज रतूड़ी, एसएसआई प्रदीप नेगी, सीआईयू प्रभारी रफत अली, एसआई कमलेश शर्मा, सुनील पंवार, दीपक तिवाड़ी, हेड कांस्टेबल देवीलाल, कांस्टेबल कुलदीप सिंह, सुनित, मुकेश कुमार, संतोष सिंह, गजेन्द्र, हेड कांस्टेबल सुशील कुमार, कांस्टेबल हरीश लाल, आबिद अली, अमरजीत, संतोष आदि शामिल थे।