थिरपाक के बुजुर्ग की हत्या का पुलिस ने किया खुलासा

Publish 11-03-2019 17:52:14


थिरपाक के बुजुर्ग की हत्या का पुलिस ने किया खुलासा

गोपेश्वर/चमोली(जगदीश पोखरियाल)।  चमोली जिले के विकास खंड घाट के थिरपाक के बुजुर्ग की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने हत्या के मामले में एक नाबालिक को हिरासत में लिया है। जिसे सोमवार को न्यायालय में पेश किया गया है। बता दें कि पांच मार्च को मृतक जयकृत सिंह की पुत्री रेखा देवी पत्नी विक्रम सिंह निवासी गोपेश्वर ने लिखित तहरीर कोतवाली चमोली में थी कि मेरे पिताजी जयकृत सिंह पुत्र चंद्र सिंह निवासी ग्राम थिरपाक की किसी अज्ञात ने हत्या की है। जिसके आधार पर कोतवाली चमोली में अज्ञात के खिलाफ मामला पंजीकृत किया गया।
पुलिस अधीक्षक चमोली यशवंत सिंह चैहान ने बताया कि घटना का खुलासा करने के लिए  एक टीम का गठन किया था। टीम के अथक प्रयासों के बाद घटनास्थल थिरपाक के पास के एक गांव के एक नाबालिग लड़के का नाम प्रकाश में आया है जो मृतक जयकृत के घर दूध देने आया जाया करता था।  शक होने पर पूछताछ के लिए नाबालिक को थाने लाया गया। जहां नाबालिक ने बताया कि वह मृतक जयकृत के यहां दूध देने जाता था। जयकृत सिंह ने उससे से घी लाने के लिए कहा जिस पर वह अपने घर से दो किलो घी लाकर जयकृत सिंह को दिया। जिसके जयकृत सिंह  ने 600 रुपए दिए और बाकी पैसे लेने के लिए दूसरे कमरे में गया तो इस बीच उसने जयकृत सिंह का लावा का मोबाइल फोन उठाकर चला गया। बाकी पैसे लेने के लिए अपने घरवालों के कहने पर वह दो-तीन दिन जयकृत सिंह के घर गया लेकिन जयकृत सिंह ने उसे पैसे नही दिए और डांटते हुए भगा दिया। बताया कि पैसे न लाने पर उसके के घरवाले शक कर रहे थे कि उसने पैसे खर्च कर दिए। बताया कि लगभग 14-15  दिन पहले वह गुस्से में सुबह जयकृत के घर गया और घी के पैसे मांगने लगा तो जयकृत सिंह  ने डांटते हुए दूसरे दिन आने को कहा, इस पर मुझे गुस्सा आया और अलमारी के ऊपर रखे चाकू से जयकृत सिंह की छाती, पेट, सिर व जांघो पर अंधाधुंध वार किया जिससे वो मुंह के बल नीचे गिर गया। उसके बाद खींचकर पूजाघर वाले कमरे में ले गया तथा बाहर से कुंडी लगा दी। तब वह रसोईघर में गया और अपना घी का डब्बा लेकर बाहर निकला और बाहर चैनल गेट पर ताला लगाकर चाबी शिव शक्ति वर्कशॉप के ऊपर फेंक दी थी। जिसको पूछताछ के दौरान पुलिस निगरानी में लिया गया। जिसकी निशानदेही पे चाबी बरामद की गया।     

To Top