ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    थिरपाक के बुजुर्ग की हत्या का पुलिस ने किया खुलासा

    11-03-2019 17:52:14


    पवनेश ठकुराठी को कुमाउनी शब्द चित्र लेखन पुरूस्कार से नवाजा
    अल्मोड़ा 22 अगस्त,
    कुमाउनी भाषा साहित्य एवं संस्कृति प्रचार समिति द्वारा गिरश तिवारी गिर्दा की पुण्य तिथि पर कुमाउनी भाषा पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया । गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए डा0 दिवा भट्ट ने सम्बोधित करते हुए कहा कि गिर्दा जमीनी सामाजिक लोककवि, लोकगायक, और जनआन्दोलन कायों के रूप में गिर्दा ने अद्वितीय लोक प्रियता हासिल की । उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के केन्द्रीय अध्यक्ष पी0 सी0 तिवारी ने कहा कि गिर्दा के साहित्य में मौलिक व गहन चिंतन की झलक दिखाई देती है। साजिक परिस्थितियों को चित्रित करने वाले के एक विलक्षण साहित्यकार थे । कुमाउनी साहित्यकार डा0 कपिलेश भोज ने कहा कि गिर्दा जनता को भाव विभोर हिन नहीं करते अपितु व जन - जन के हदय में उत्साह उमंग का संचार करने में भी पूर्ण सक्षम थे, शिखरों के स्वर और हमारी कविता आखर पुस्तक के माध्यम से चेतना जगाकर लोक प्रियता हासिल की । उनकी 200 से अधिक रचानाऐं है। जिसमें पुजीवाद के विरोध अभिव्यक्ति कि गयी है। इस अवसर पर डा0 पवनेश ठकुराठी को अरूण कुमार भट्ट स्मृति कुमाउनी शब्द चित्र लेखन पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया । समिति के सचिव डा0 हयात सिंह रावत ने कहा कि कुमाउनी भाषा के कि विद्यालयी पाठ्यक्रम में शामिल करने सविधान के 8 अनुसूची में शामिल करने व भावी पीड़ी को पश्चिमी सभ्यता के अंधानुकरण से बचाने के लिए जरूरत बताया । इस अवसर पर ईश्वरी दत्त जोशी, उदय किरौला, डा0 दया कृष्ण कांड़पाल, पूरन चन्द्र तिवारी, सी0 एल0 वर्मा, जंग बहादुर थापा, आनन्द सिंह बिष्ट, मेहन्द्र ठकुराठी, ललित सिंह तुलेरा, अनुप तिवारी, रूप सिंह बिष्ट, भुवन चंद्र बहुगुणा, मीना अस्वाल, राशि उनियाल, आदि मौजूद थे । संगोष्ठी का संचालन डा0 हयात सिंह रावत ने किया ।