*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

सांभर का मांस ले जाना ग्रामीणों को पड़ा भारी

11-01-2020 21:48:34 By: एडमिन

चमोली । चमोली जिले के गंगोल गांव में केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग के क्षेत्र में चट्टान से गिर कर सांभर के मरने के मामले में मृत सांभर के दफनाये मांस को निकालकर ले जाना ग्रामीणों को भारी पड़ा। मामले में वन विभाग की ओर से मांस निकालकर ले जाने के मामले में चार लोगों को गिरफ्तार कर वन अधिनियम की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

 

बता दें, कि गुरूवार को जिला मुख्यालय से लगे ग्वाड़ गांव के समीप चट्टान से गिरकर एक सांभर की मौत हो गई थी। जिसकी सूचना मिलने पर वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने मौके पर पहुंचकर यहां मृत सांभर को नियमानुसार जलाकर बिलीचिंग और फिनाइल डालकर दफना दिया गया था। लेकिन मौके से वन विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों के जाने के बाद रात्रि में यहां आसपास के ग्रामीणों ने दफनाये गये सांभर को निकालकर मांस को आपस में बांट लिया। जिसकी सूचना मिलते ही वन विभाग के अधिकारियों ने स्थानीय निवासी शिव सिंह, मुर्खलया सिंह, अब्बल सिंह और बलवीर लाल को करीब 10 किलोग्राम से अधिक मांस के साथ गिरफ्तार कर लिया है।

 


क्या कहते है अधिकारी

ग्वाड़ गांव में गुरूवार को चट्टान से गिरकर मरने वाले सांभर का अधिकारी और कर्मचारियों के निस्तारण के बाद ग्रामीणों ने दफनाये मांस को निकालने की सूचना मिली थी। जिस पर विभागीय अधिकारियों ने चार लोगों को गिरफ्तार कर मांस रिकवर कर लिया है। मामले में वन अधिनियम की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। हालांकि सभी आरोपियों को अभी बांड पर छोड़ दिया गया है।

अमित कंवर, डीएफओ, केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग, चमोली