विष्णु मंदिर के बाबा की हत्या के मामले तीन अभियुक्त गिरफ्तार

Publish 18-10-2018 18:51:18


विष्णु मंदिर के बाबा की हत्या के मामले तीन अभियुक्त गिरफ्तार

एसएसपी ने पत्रकार वार्ता कर किया हत्या का खुलासा ,पुलिस टीम को ढ़ाईं हजार का ईनाम घोषणा
हत्या के चौथे अभियुक्त ने पूर्व में ही कर ली थी आत्महत्या
अल्मोड़ा 18 अक्टूबर,
लमगड़ा विकासखंड के अंतर्गत विष्णु मंदिर डोल में पुजारी बाबा भुवन चंद्र फुलारा उर्फ त्रिभुवन चैतंयपुरी की विगत 29 सितंबर को हुई हत्या का पुलिस ने गुरूवार को खुलासा करते हुए तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि हत्या में शामिल चौथा अभियुक्त पूर्व में आत्महत्या कर चुका है। इधर, हत्या का खुलासा करने वाली टीम को एसएसपी पी रेणुका देवी ने ढ़ाई हजार के ईनाम देने की घोषणा भी कर दी है।  


एसएसपी कार्यालय में गुरूवार एसएसपी पी. रेणुका देवी ने पत्रकार वार्ता के दौरान बीते माह विष्णु मंदिर के पुजारी एवं बाबा चैतंयपुरी के हत्या का खुलासा करते हुए तीन अभियुक्तों को पेश करते हुए इस हत्याकांड का खुलासा किया। एसएसपी ने बताया कि मंदिर के पुजारी भुवन चंद्र फुलारा उर्फ त्रिभुवन चौतन्यपुरी पुत्र गोविंद बल्लभ फुलारा निवासी कोडार, देवली जिला नैनीताल पिछले एक साल से मंदिर में पुजारी बाबा के रूप में कार्य कर रहे थे। मंदिर के पास बने चैकडेम में संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिले। जिसके बाद उनके पिता गोविंद बल्लभ फुलारा ने लमगड़ा थाने में बाबा की हत्या के संबंध में अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। जिसकी विवेचना करने के बाद बाबा की हत्या में दीपक सिंह फर्त्याल पुत्र हर सिंह, सूरज सिंह पुत्र जोधा सिंह, यतेंद्र सिंह पुत्र नंदन सिंह तथा नंदन सिंह पुत्र अमर सिंह निवासी डोल के नाम सामने आए। पुलिस पूछताछ में अभियुक्त नंदन सिंह ने हत्या के आरोप में फंसने पर पहले ही आत्महत्या कर ली। अभियुक्तों से पुलिस पूछताछ में सामने आया कि इन सबने मिलकर बाबा को मारने के इरादे से हमला किया। बहहवास हालत में मंदिर के समीप चैकडैम में तब तक डुबाया जब तक बाबा के प्राण नहीं चल गए।  इसके बाद शव को पत्थरों से पानी में दबा कर यह लोग वापस चल गए। उन्होनंे बताया कि अभियुक्त दीपक फर्त्याल के पास से पुलिस टीम ने बाबा का एटीएम कार्ड व पासबुक जिसमें 22 हजार रूपये जमा थे और सूरज से बाबा क टार्च बरामद भी किया है। एसएसपी ने बताया कि यतेंद्र सिंह फतर्याल के खिलाफ थाना लमगड़ा व राजस्व क्षेत्र में चार अभियोग बलात्कार व मारपीट के पूर्व से पंजीकृत हैं। घटना प्रकाश में आने पर चौथे अभियुक्त नंदन सिंह ने एक सितंबर को जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। विवेचना में यह भी प्रकाश में आया है कि गिरफ्तार हुए दीपक फर्तयाल व सूरज फर्तयाल ने मिलकर पूर्व में भी मंदिर में चोरी की थी। तीनों अभियुक्तों को धारा 302/201/34 भादवि में न्यायालय के समक्ष पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है। घटना का आवरण करने पर एसएसपी ने पुलिस टीम को 2500 रूपये ईनाम में देने की घोषणा की है। पुलिस टीम में थानाध्यक्ष लमगड़ा राजेंद्र सिंह बिष्ट, उप निरीक्षक अनीश अहमद, कांस्टेबल जगदीश व राकेश भट्ट तथा निरीक्षक एसओजी मय टीम शामिल थे।

To Top