सोशल मीडिया में न्यूसैंन्स पैदा करने पर कार्यवाही

Publish 09-12-2018 19:24:36


सोशल मीडिया में न्यूसैंन्स पैदा करने पर कार्यवाही


कोटद्वार/पौड़ी । खोह नदी में हो रहे खनन को बंद करने समेत तीन मांगों को लेकर काशीरामपुर तल्ला निवासी राजेश नौटियाल का आमरण अनशन बुधवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। ग्रामीणों ने अनशन स्थल पर पहुंचकर अपना समर्थन व्यक्त किया।
खोह नदी में रिवर ट्रेनिंग के तहत उत्तराखंड की सीमा में हो रहे खनन के विरोध में काशीरामपुर तल्ला निवासी राजेश नौटियाल का आमरण अनशन नदी के तपड़ में बुधवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। इस मौके पर आयोजित सभा में वक्ताओं ने कहा कि खनन कारोबारियों द्वारा रिवर ट्रेनिंग नीति 2016 के मानकों का खुले आम उलंघन किया जा रहा है। स्थिति यह है कि ग्रामीणों ने गांव के लिए खतरा बनी खोह नदी के बीच में बने टापू जो खोह नदी के बहाव को दो भागों में विभाजित करता है पर बाढ रोकने के लिए शीशम और सागौन के पेड़ लगाए गए है को उखाड़ा जा रहा है। इसके अलावा मलबा उठाने में भारी मशीनों का प्रयोग किया जा रहा है, जिससे क्षेत्र के पर्यावरण को भी नुकसान पहुंच रहा है। ग्रामीणों का यह भी कहना है कि रिवर ट्रेनिंग के तहत केवल डेढ़ मीटर गहराई तक ही मलबा उठाया जाना चाहिए लेकिन खनन कारोबारी ने मानकों के विपरीत कई मीटर गहरे खड्डे खोद दिए हैं। जिससे खोह नदी के किनारे बसे गांवों को बाढ़ का खतरा बना हुआ है। इस मौके पर खनन बंद करने के साथ ही पेड़ों का अवैध कटान बंद करने, पेड़ उखाडने वाले खनन कारोबारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की गई। आमरण अनशन का समर्थन करने वालों में सूरज प्रसाद कांति, कुलवंत सिंह रावत, प्रवीन थापा, चंद्रकांत बलोदी, पंकज कोटियाल, परमानंद जोशी, परमेश्वरी देवी, सीमा देवी, मधु चैहान, लक्ष्मी भट्ट, संतोषी देवी, पंकज नौटियाल, बिजेंद्र त्यागी, सत्यपाल सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल रहे।

To Top