*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

सोशल मीडिया में न्यूसैंन्स पैदा करने पर कार्यवाही

09-12-2018 19:24:36


कोटद्वार/पौड़ी । खोह नदी में हो रहे खनन को बंद करने समेत तीन मांगों को लेकर काशीरामपुर तल्ला निवासी राजेश नौटियाल का आमरण अनशन बुधवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। ग्रामीणों ने अनशन स्थल पर पहुंचकर अपना समर्थन व्यक्त किया।
खोह नदी में रिवर ट्रेनिंग के तहत उत्तराखंड की सीमा में हो रहे खनन के विरोध में काशीरामपुर तल्ला निवासी राजेश नौटियाल का आमरण अनशन नदी के तपड़ में बुधवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। इस मौके पर आयोजित सभा में वक्ताओं ने कहा कि खनन कारोबारियों द्वारा रिवर ट्रेनिंग नीति 2016 के मानकों का खुले आम उलंघन किया जा रहा है। स्थिति यह है कि ग्रामीणों ने गांव के लिए खतरा बनी खोह नदी के बीच में बने टापू जो खोह नदी के बहाव को दो भागों में विभाजित करता है पर बाढ रोकने के लिए शीशम और सागौन के पेड़ लगाए गए है को उखाड़ा जा रहा है। इसके अलावा मलबा उठाने में भारी मशीनों का प्रयोग किया जा रहा है, जिससे क्षेत्र के पर्यावरण को भी नुकसान पहुंच रहा है। ग्रामीणों का यह भी कहना है कि रिवर ट्रेनिंग के तहत केवल डेढ़ मीटर गहराई तक ही मलबा उठाया जाना चाहिए लेकिन खनन कारोबारी ने मानकों के विपरीत कई मीटर गहरे खड्डे खोद दिए हैं। जिससे खोह नदी के किनारे बसे गांवों को बाढ़ का खतरा बना हुआ है। इस मौके पर खनन बंद करने के साथ ही पेड़ों का अवैध कटान बंद करने, पेड़ उखाडने वाले खनन कारोबारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की गई। आमरण अनशन का समर्थन करने वालों में सूरज प्रसाद कांति, कुलवंत सिंह रावत, प्रवीन थापा, चंद्रकांत बलोदी, पंकज कोटियाल, परमानंद जोशी, परमेश्वरी देवी, सीमा देवी, मधु चैहान, लक्ष्मी भट्ट, संतोषी देवी, पंकज नौटियाल, बिजेंद्र त्यागी, सत्यपाल सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल रहे।