शराब तस्करी में लिप्त 03 वाहनों पर लगाया 89 हजार का अर्थदण्ड

Publish 09-12-2018 19:23:36


शराब तस्करी में लिप्त 03 वाहनों पर लगाया 89 हजार का अर्थदण्ड


कोटद्वार/पौड़ी । देश के कई हिस्सों में चल रहा कैश के संकट का असर कोटद्वार में भी देखने को मिल रहा है। स्थिति यह है कि कई दिनों तक एटीएम और बैंकों का चक्कर काटने के बावजूद भी लोगों पर्याप्त मात्रा में नगदी नहीं मिल पा रही है। विवाह समारोह अधिक होने के चलते लोगों को न्यौता लिखाना भी भारी पड़ रहा है। इसके अलावा एटीएम के भरोसे बाहर से पहुंचे लोगों को तो खाने के लाले पड़ रहे हैं। सरकार और बैंकों के खिलाफ जनता में गहरा रोष साफ दिखाई दे रहा है। आज अक्षय तृतीया है और आज से ही चारधाम यात्रा भी शुरू होने जा रही है उत्तरी राज्यों में कैश किल्लत का असर चारधाम यात्रा पर कितना पड़ेगा यह तो एक दो दिन में स्वदेशी और विदेशी पर्यटकों की तादात पर निर्भर है, लेकिन यह तय है कि यदि स्थिति यही रही तो निश्चित ही यात्रा भी प्रभावित होगी।
इन दिनों विवाह समारोहों का दौर चल रहा है और एटीएम की सुविधा होने के कारण लोग अपनी जेबों में नगदी रखना पसंद भी नहीं करते। एटीएम के भरोसे बाहर से विवाह समारोह में शामिल होने पहुंचे लोगों को तब मायूसी का सामना करना पड़ा जब उन्हें पता चला कि देश के विभिन्न हिस्सों में कैश का संकट खड़ा हो गया है। दरअसल आम आदमी सफर में जेब कटने के डर से अब एटीएमों पर ज्यादा निर्भर है। लेकिन कोटद्वार शहर में तो एक दो बैंकों के एटीएमों को छोड़कर सभी बैंकों के एटीएमों के शटर गिरे हुए हैं। स्थिति यह है कि लोग विगत तीन चार दिनों से एटीएमों के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन बावजूद इसके उन्हें कैश नहीं मिल पा रहा है। विवाह समारोह में रिश्तेदारी में शामिल होने बाहर आए लोगों को जहां न्यौता लिखाने के लिए भी पैसे नहीं मिल पा रहे हैं, वहीं कारोबार के सिलसिले में कोटद्वार पहुंचे लोगों को एटीएम से पैसे न निकलने से खाने के भी लाले पड़ गए है। स्थानीय लोगों की बात करें तो अक्षय तृतीय का पर्व होने के कारण इस दिन को खरीददारी के लिए बहुत शुभ माना जाता है, लेकिन पैसा न होने के बाजारों में भी सन्नाटा पसरा रहा। ग्राहकों ने जहां दुकानों से दूरी बनाकर रखी, वहीं व्यापारी भी दुकानदारी न होने के कारण मायूस नजर आए। एटीएमओं से पैसा न निकलने का कारण जानने के लिए बैंकों के मैनजरों से संपर्क करने पर अधिकांश बैंकों के मैनेजर मीडिया से बचते नजर आए। कुछ बैंक मैनेजरों ने कहा कि हमें ऊपर से सख्त निर्देश मिले हैं कि हम मीडिया से कैश के संबंध में कोई बात न करें। तो कई बैंक मैनेजर यह कहते हुए नजर आए कि हम डिप्टी मैनेजर है और इस संबंध में उच्चाधिकारी ही बता सकते हैं।
क्या कहती है जनता
तीन दिन से एटीएम के चक्कर काटते-काटते थक चुका हूं, लेकिन पैसा नहीं मिल पाया। आज सुबह से कई एटीएमों के चक्कर काट चुका हूं, लेकिन कहीं भी पैसा नहीं है। किसी ने बताया कि नजीबाबाद रोड़ स्थित एटीएम से पैसे की निकासी हो रही है तो मैं यहां पहुंचा, लेकिन यहां भी भारी भीड़ है और पिछले डेढ़ घंटे से लाइन में खड़ा हूं।......एचएस रावत स्थानीय ग्रामीण।
बम्बई से किसी व्यवसायिक कार्य से कोटद्वार आया था और काम न होने के कारण कोटद्वार ही रूका हुआ हूं। उम्मीद थी कि एटीएम से काम चल जाएगा, इसीलिए जेब में नगदी साथ लेकर भी नहीं आया। लेकिन एटीएम से पैसा न निकलने के कारण खाने के भी लाले पड़ गए है।.....एसएस रावत बम्बई
मैं सेना में काम करता हूं और लैंसडौन आया था, लेकिन लैंसडौन के किसी भी एटीएम में पैसा नहीं है। पैसा निकालने के लिए कोटद्वार पहुंचा, लेकिन कोटद्वार के एटीएम भी खाली पड़े हैं, कई घंटों से लाइन में इस उम्मीद से खड़ा हूं कि एटीएम में से कुछ पैसे निकले, जिससे कि आज का काम चल जाए।.......दीपक शाह लैंसडौन।

To Top